X

Invest in Mutual funds via BLACK APP

(1200)

Install

Looking for a business loan

*

Thank you for your interest, our team will get back to you shortly

Please Fill the Details to download

Thank you for your response

Get Expert Assistance

Thank you for your response

Our representative will get in touch with you shortly.

आधार कार्ड – आधार कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें? ऑनलाइन आधार सेवाएं और सूचना

आधार कार्ड- आधार स्टेटस , दस्तावेज, आवेदन, जाँच और आधार e-KYC

:

08 .

: اللغة العربية

आधार कार्ड (Aadhaar card ) भारत के प्रत्येक निवासी को जारी किया जाने वाला एक विशिष्ट पहचान संख्या है। आधार कार्ड पैन कार्ड जितना ही महत्वपूर्ण है।आम तौर पर म्यूचुअल फंड हाउस सहित दूसरे अन्य संगठन निवेश के लिए दस्तावेज़ीकरण के एक भाग के रूप में आधार कार्ड को स्वीकार करते हैं। आइए आधार और इसके महत्व को विस्तार से समझते हैं।

जानिए आधार कार्ड के बारे में सब कुछ

आधार एक 12-अंकीय संख्या है जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए विशिष्ट डेमोग्राफिक और बायोमेट्रिक डेटा के आधार पर बनाई जाती है। आधार के लिए भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI ), भारत सरकार की एक संस्था है।

UIDAI की स्थापना वर्ष 2016 में भारत के लोगों को अत्युत्तम , कुशल और पारदर्शी शासन प्रदान करने के उद्देश्य के साथ की गई थी। जिसमें निम्नलिखित घटक होते हैं:

आधार जारी करने वाली संस्था का नामभारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI )
आधार कस्टमर केयर नंबर1947
आधार कार्ड की शुरुआतSeptember 2010
आधार कार्ड की वैधताआजीवन 
नामांकन केंद्रों की संख्या30,000 से अधिक
नामांकन की संख्या119 करोड़ (लगभग)
प्रमुख लोगजे. सत्यनारायण (IAS,  अध्यक्ष, UIDAI )पंकज कुमार (IAS , CEO, UIDAI)

आधार कार्ड योग्यता 

आधार कार्ड के लिए निचे दिए गए लोग योग्य है:

  • भारत का कोई भी निवासी (नवजात शिशु/नाबालिग) आधार कार्ड के लिए योग्य है। आधार कार्ड वयस्कों के लिए है, जबकि बाल आधार पांच साल से कम उम्र के बच्चों के लिए है| 
  • एनआरआई (NRI) और 12 महीने से अधिक समय से भारत में रहने वाले विदेशी, आधार के लिए योग्य हैं। भारतीय पासपोर्ट वाले अनिवासी भारतीयों के लिए 180 दिनों तक प्रतीक्षा किए बिना उसे भारत आगमन के बाद आधार कार्ड जारी करने का प्रस्ताव है।

आधार कार्ड के लिए आवश्यक दस्तावेज

आधार के लिए दो प्रकार के दस्तावेजों की आवश्यकता होती है – पते का प्रमाण और पहचान का प्रमाण। निम्नलिखित दस्तावेज इन मानदंडों को पूरा करने के लिए पर्याप्त हैं:

पहचान का प्रमाण पते का प्रमाण 
पैन कार्डपासपोर्ट
जन्म प्रमाण पत्रराशन/पीडीएस कार्ड
मतदाता पहचान पत्र
ड्राइविंग लाइसेंस

आधार कार्ड के लिए नाम दर्ज करने के चरण

  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आधार नामांकन केंद्र खोजें।
  • मांगी गई जानकारी के साथ फॉर्म भरें।
  • आवश्यक दस्तावेज जमा करें।
  • अपना बायोमेट्रिक (फिंगरप्रिंट और आईरिस स्कैन) प्रदान करें।
  • नामांकन प्राप्ति रसीद प्राप्त करें।
  • आधार नामांकन स्वैच्छिक और नि: शुल्क है।।

बाल-आधार

नवजात/नाबालिग  बच्चे को जारी किया गया आधार कार्ड ‘बाल आधार’ कार्ड के रूप में जाना जाता है। यह नीले रंग का है और इसमें बालिग लोगों के कार्ड के विपरीत, कार्डधारक के फिंगरप्रिंट और आईरिस स्कैन जैसी बायोमेट्रिक जानकारी शामिल नहीं है।

  • UIDAI की वेबसाइट पर जाएं और बच्चे के जन्म प्रमाण पत्र की एक कॉपी के साथ निकटतम नामांकन केंद्र खोजें।
  • बच्चे के माता-पिता में से एक को प्रमाणीकरण के लिए अनिवार्य रूप से अपना आधार नंबर देना होगा। बाल आधार को माता-पिता के आधार से जोड़ा जाएगा।
  • मोबाइल नंबर, जिसके साथ आप बाल आधार पंजीकृत करना चाहते हैं, और सभी जरूरी डिटेल्स के साथ बाल आधार आवेदन पत्र भरें|बच्चे/नाबालिग का फोटो लिया जाएगा। अगर बच्चा 5 साल से कम उम्र का है, तो कोई बॉयोमीट्रिक्स दर्ज नहीं किया जाएगा| 
  • उपरोक्त चरणों को पूरा करने के बाद, पावती पर्ची ले लें | 
  • आवेदन पत्र में दिए गए मोबाइल नंबर पर एक वेरिफिकेशन SMS  भेजा जाएगा, जिसके बाद बाल आधार को दिए गए पते पर भेज दिया जाएगा।

आधार कार्ड की स्थिति जांचें

आधार कार्ड की स्थिति की जांच करने के लिए, आधिकारिक UIDAI वेबसाइट पर लॉग इन करें, ‘मेरा आधार’ टैब के तहत ‘आधार स्थिति जाने’ पर क्लिक करें। आधार कार्ड की वर्तमान स्थिति की जांच करने के लिए अपना नामांकन नंबर दर्ज करें जो आपके पावती पर्ची पर मुद्रित है।

आधार कार्ड डाउनलोड/प्रिंट करें

यदि आपने आधार कार्ड के लिए सफलतापूर्वक नामांकन कर लिया है, लेकिन अभी तक आधार की कॉपी प्राप्त नहीं हुई है, तो आप आधार कार्ड के पीडीएफ संस्करण को डाउनलोड और प्रिंट कर सकते हैं, जिसे आधार वेबसाइट से ई-आधार के रूप में भी जाना जाता है। यह हर जगह स्वीकार किया जाता है। अपना आधार डाउनलोड करने के लिए UIDAI  की वेबसाइट पर जाएं।

आधार कार्ड सत्यापन

अब निम्नलिखित चरणों द्वारा आधार को आसानी से ऑनलाइन वेरिफिकेशन करना संभव है:

चरण 1: UIDAI  की आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करें।

चरण 2: पेज पर ‘मेरा आधार ‘ विकल्प चुनें।

चरण 3: पृष्ठ पर मौजूद ‘आधार संख्या सत्यापित करें चुनें।

चरण 4: अद्वितीय 12-अंकीय आधार संख्या दर्ज करें।

चरण 5: वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) दर्ज करें जो आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल फोन पर प्राप्त होगा।

चरण 6: आवेदन जमा करें।

यदि विवरण में कोई मेल नहीं है, तो आप UIDAI टोल फ्री नंबर – 1947 पर कॉल कर सकते हैं या ऑनलाइन UIDAI  पर जा सकते हैं। .

आधार को अपडेट/एडिट कैसे करें?

आधार कार्ड विवरण अपडेट करने के दो मुख्य कारण हैं:

  • डेमोग्राफिक डेटा जैसे नाम, आयु और वैवाहिक स्थिति में परिवर्तन।
  • बायोमेट्रिक आधार डेटा में परिवर्तन ।

 विवरण अपडेट करने के लिए आपको सहायक दस्तावेज (ID proof/address proof) की एक कॉपी चाहिए। आधार नामांकन केंद्र पर जाकर या आधार को ऑनलाइन अपडेट करने के लिए UIDAI की वेबसाइट पर लॉग इन करके अपडेट किया जा सकता है।

आधार virtual  ID 

आधार virtual ID  आधार नंबर का विकल्प है। यह virtual ID एक अस्थायी कोड है जिसमें एक 16-अंकीय संख्या होती है जो आधार संख्या के विरुद्ध उत्पन्न होती है। ध्यान रखें कि किसी भी स्थिति में virtual IDका उपयोग ओरिजिनल आधार कार्ड को पुनः प्राप्त करने के लिए नहीं किया जा सकता है। आधार संख्या के विरुद्ध केवल एक virtual ID उत्पन्न होती है, और इसे उपयोगकर्ता जितनी बार चाहे उतनी बार जनरेट किया जा सकता है।

बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न:

  1. अगर आपका आधार कार्ड खो जाए तो क्या करें?

अगर आपने अपना आधार कार्ड खो दिया है तो चिंता न करें। आप UIDAI की वेबसाइट पर जाकर और आधार ऑनलाइन सेवाओं का उपयोग करके 

पीडीएफ/ई-आधार ऑनलाइन डाउनलोड करके डुप्लीकेट आधार कार्ड प्राप्त कर सकते हैं।

  1. आधार कार्ड कितने समय के लिए वैध होता है?

आधार कार्ड/नंबर आजीवन के लिए वैध है।

  1. क्या आधार कार्ड ऑनलाइन बनाया जा सकता है?

नहीं, आधार नामांकन एक बार की प्रक्रिया है जिसे किसी भी आधार नामांकन केंद्र पर किया जा सकता है। अपने पास वाले आधार नामांकन केंद्र खोजने के लिए, UIDAI  की वेबसाइट पर जाएं और आधार नामांकन केंद्र खोजें।

  1. आधार कार्ड होने का उद्देश्य क्या है?

आधार एक विशिष्ट पहचान संख्या है जो भारत के प्रत्येक निवासी को निम्नलिखित के साथ सक्षम बनाता है:

  • पहचान का सबूत (ID proof)
  • पते का सबूत (address proof)
  • सरकारी सब्सिडी पाने के लिए 
  • बैंक खाते खोलने और ऑपरेट करने  लिए 
  • आयकर रिटर्न फाइल करने के लिए 
  • फोन कनेक्शन
  • गैस कनेक्शन
  • म्यूचुअल फंड निवेश के लिए eKYC
  • eKYC के लिए  (अपने ग्राहक को जानें)
  1. आधार प्रमाणीकरण क्या है?

आधार प्रमाणीकरण सत्यापन का एक तरीका है जहां किसी व्यक्ति का आधार विवरण UIDAI को प्रस्तुत किया जाता है और कार्डधारकों को सेवा प्रदाता से सेवाओं और लाभों का लाभ उठाने के लिए वेरीफाई किया जाता है। कई सेवा प्रदाताओं के लिए eKYC के लिए आधार एक बड़ी सेवा आवश्यकता है और उपयोगकर्ता और सरकार के लिए भी इसका बहुत बड़ा लाभ है। इसलिए 

eKYC प्रक्रिया कागज रहित है, जो सेवा प्रदाता को दस्तावेजों को जल्दी और कुशलता से प्रबंधित करने में सक्षम बनाती है। 

  • त्वरित-आधार कार्ड धारक मिनटों के भीतर एक सुरक्षित चैनल के माध्यम से एक सेवा प्रदाता के साथ जानकारी साझा कर सकता है, इस प्रकार लंबी प्रतीक्षा अवधि को समाप्त कर सकता है जिसके लिए आमतौर पर भौतिक दस्तावेजों की आवश्यकता होती है
  • सिक्योर- UIDAI सुरक्षित चैनलों के माध्यम से केवल टैम्पर-प्रूफ डिजिटल दस्तावेज़ साझा करता है, जिससे धारक की जानकारी की सुरक्षा होती है। इन दस्तावेजों को जाली नहीं बनाया जा सकता है। इसका उपयोग सेवा प्रदाता और आधार धारक दोनों की सहमति के बिना नहीं किया जा सकता है।
  • सहमति-आधारित: UIDAI  एक सेवा प्रदाता के साथ जानकारी तभी साझा करता है जब UIDAI को आधार धारक से बायोमेट्रिक या ओटीपी के रूप में स्पष्ट सहमति प्राप्त होती है।
  • UIDAI  द्वारा साझा की गई अधिकृत जानकारी में प्रमाणित डेटा होता है जो इसे लेन-देन में शामिल पार्टियों के लिए कानूनी और स्वीकार्य बनाता है।
  • लागत अनुकूल: संपूर्ण प्रक्रिया कागज रहित और ऑनलाइन है, जो सूचना के भौतिक संचलन को समाप्त करती है और इसे लागत प्रभावी और समय बचाने वाली प्रक्रिया बनाती है।
  1. प्लास्टिक/पीवीसी आधार कार्ड क्या है?

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI ) ने एक आधिकारिक बयान जारी कर सभी आधार कार्डधारकों को प्लास्टिक/पीवीसी आधार कार्ड बनाने से बचने की जानकारी दी है। इन कार्डों की पहचान नहीं की जाती है क्योंकि अक्सर QR कोड छपाई में हुई गलतियों  के कारण निष्क्रिय हो जाता है।

UIDAI  पुन: पुष्टि करता है कि जारी किए गए ओरिजिनल आधार कार्ड या डाउनलोड किए गए आधार कार्ड या साधारण कागज पर छपे हुए आधार कार्ड या mAadhaar वैध हैं और लोगों को ‘आधार स्मार्ट कार्ड’ टालना चाहिए।